Bse In Hindi -what is nse and bse -how many companies are listed in BSE


आज हम आपको इस पोस्ट के जरिये शेयर बाजार में bse के बारे में जानेगे स्टॉक मार्किट में बीएसई क्या है,Bse In Hindi , nse or bse kya hai ,what is nse and bse ,बीएसई सेंसेक्स क्या है BSE SENSEX Kya hai ,difference between nse and bse in hindi ,और जानेगे bse की शुरआत कब और कैसे हुई और bse computarized(कम्पूटराइज़्ड) कब हुआ ? तो आइये जानते है इन सभी के बारे .

BSE kya hai in hindi

BSE in Hindi-what is nse and bse in stock market in hindi

भारत के शेयर बाज़र में  दो स्टॉक एक्सचेंज है जिनमें से एक का नाम{Bombay Stock Exchange} बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज है जिसे हम BSE के नाम से जानते है और दूसरा{National Stock Exchange } नेशनल स्टॉक एक्सचेंज है

और यह NSE के नाम से जाना जाता है BSE भारत का ही नहीं बल्कि एशिया का सबसे बड़ा और पुराना स्टॉक एक्सचेंज है BSE India स्टॉक एक्सचेंज पुरी दुनिया में top स्टॉक एक्सचेन्जो में आता है

 What Is Nse And Bse

भारतीय शेयर बाजार के दो स्टॉक एक्सचेंज है जिन्हे NSE AND BSE  के नाम से जाना जाता है

what is bse

BSE भारत का एक स्टॉक एक्सचेंज है यह स्टॉक एक्सचेंज कई सालो पुराना स्टॉक एक्सचेंज है जिसका पूरा नाम बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज है यह मुंबई शहर के दलाल स्ट्रीट में स्तिथ है यह स्टॉक एक्सचेंज एशिया का सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज है

अगर आपको BSE की Official Website पर Visit करना है तो निचे लिंक मौजूद है उस पर क्लिक करे

bse official website …..

what is the full form of bse ?

BSE की फुल फॉर्म (bombay stock exchange) बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज है

What Is Nse And Bse?

भारतीय शेयर बाजार के दो स्टॉक एक्सचेंज है जिन्हे NSE AND BSE  के नाम से जाना जाता है

what is bse ?

BSE भारत का एक स्टॉक एक्सचेंज है यह स्टॉक एक्सचेंज कई सालो पुराना स्टॉक एक्सचेंज है जिसका पूरा नाम बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज है यह मुंबई शहर के दलाल स्ट्रीट में स्तिथ है यह स्टॉक एक्सचेंज एशिया का सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज है

How Many Company Listed In Bse

भारतीय शेयर बाजार के स्टॉक एक्सचेंज BSE में 5000 से भी ज्यादा कम्पनिया लिस्टेड है

nse or bse which is better

which is better nse or bse  यह बात एक निवेशक पर निर्भर करती है की वह किस प्रकार का निवेशक है वैसे दोनों ही स्टॉक एक्सचेंज में निवेश कर सकते है लेकिन एक्सपर्ट्स की माने तो अगर कोई नया नया निवेशक शेयर बाजार में आता है उसे bse के साथ ट्रेड करना चाहिए मतलब जब भी कोई नया निवेशक शेयर बाजार में निवेश करे तो उसे bse me में लिस्टेड कम्पनियो में निवेश करना चाहिए इसलिए bse  एक बेहतर विकल्प है

अगर आप पुराने निवेशक है शेयर बाजार में तो आप nse में लिस्टेड कंपनियों में निवेश कर सकते है ऐसे निवेशकों के लिए nse एक बेहतर विकल्प है अगर आप ट्रेडिंग करते है फ्यूचर या ऑप्शन में तो NSE SE से ही करना चाहिए क्योकि इसमें आप को ट्रैड करने में आसानी होती है

इसलिए दोनों विकल्प बेहतर है बस फर्क इतना है की आप किस प्रकार के निवेशक है

how many companies are listed in bse

भारतीय शेयर बाजार के स्टॉक एक्सचेंज BSE में 5000 से भी ज्यादा कम्पनिया लिस्टेड है

BSE ki शुरआत कब और कैसे हुई ?

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज की शुरुआत 1875 में हुई थी यह पूरे एशिया का सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज है 

bse computarized(कम्पूटराइज़्ड) कब हुआ ?

जब bse  computarized(कम्पूटराइज़्ड) नहीं हुआ था तब भी शेयर ख़रीदे व् बेचे जाते थे उस समय यह प्रोसेस कागज कार्रवाई से होता था उस समय उन कागजो को पहुंचने में समय लगता था उन दस्तावेजों को पहुंचने में कम से कम 6 महीने का समय लगता था

क्योकि इन शेयर के दस्तावेजो को डाक के जरिये भेजा जाता था इसलिए इसमें इतना समय लगता था लेकिन सरकार ने इसमें सुधार हेतु सेबी को 1992 में स्थापित किया लेकिन bse ने इसको नकार दिया था क्योकि यह बात bse  के निवेशकों को पसंद नहीं इसलिए बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ने इसके लिया मना कर दिया था

इसलिए एक दूसरे स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना की गयी जिसका नाम नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) रखा गया इस प्रकार इसके बाद bse computarized(कम्पूटराइज़्ड ) हुआ था

 BSE संसेक्स क्या है ? what is bse sensex ?

सेंसेक्स भारत का सबसे पुराना स्टॉक सूचकांक है जिसकी स्थापना 1986 में हुई थी सेंसेक्स बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज BSE का सूचकांक है यह भी शेयर बाज़र का महत्वपूर्ण सूचकांक है और सेंसेक्स भी दो शब्दो से मिलकर बना है संवेदनशील और सूचकांक से ही सेंसेक्स शब्द का नाम पड़ा है

इसीलिये  यह संवेदनशील सूचकांक के नाम से भी जाना जाता है सेंसेक्स सूचकांक में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज की 30 प्रमुख सुचिबुद्ध कंपनियों को शामिल किया है सेंसेक्स इन्ही 30 कंपनियों के सूचकांक के बारे में बताता है और उन कंपनियों के शेयर के भाव में होने वाली तेजी और मंदी को दर्शाता है

 सेंसेक्स एक मूल्य-आधारित सूचकांक है और इसकी गणना मुक्त प्रवाह पूंजीकरण प्रक्रिया के आधार पर की जाती है। यह प्रक्रिया किसी कंपनी द्वारा जारी किए गए कुल शेयरों के बाजार पूंजीकरण की पहले की प्रक्रिया से अलग है। यह कंपनी के केवल उन्हीं शेयरों का उपयोग करता है जो ट्रेडिंग के लिए पूरी तरह से उपलब्ध हैं।

इस मुक्त प्रवाह प्रक्रिया में प्रमोटरों, सरकार और संस्थागत निवेशकों के शेयर शामिल नहीं हैं। बाजार के रुझान की सही तस्वीर पेश करने के लिए 1 सितंबर 2003 को इस प्रक्रिया को लागू किया गया था।

सेंसेक्स की गणना में, 30 कंपनियों के मुक्त प्रवाह पूंजीकरण को सूचकांक हर से विभाजित किया जाता है। यह डिवाइडर केवल सेंसेक्स के मूल आधार वर्ष से संबंधित है। यह सूचकांक को तुलनीय बनाता है और कॉर्पोरेट गतिविधियों या शेयरों के परिवर्तन के माध्यम से सूचकांक के फेरबदल के लिए परिवर्तन बिंदु भी है।

सेंसेक्स ने 1986 से अब तक का लंबा सफर तय किया है और इस समय 35 गुना बढ़ चुका है। कारोबार के पहले दिन 1 अप्रैल 1986 को सेंसेक्स 549.43 पर बंद हुआ था।

The SENSEX is a price-based index and is calculated based on the free flow capitalization process. This process is different from the earlier process of market-capitalization of the total shares issued by a company. It uses only those shares of the company which are fully available for trading.

This free flow process excludes shares of promoters, government, and institutional investors. This process was implemented on 1 September 2003 to present a true picture of market trends.

In the calculation of SENSEX, the free flow capitalization of 30 companies is divided by the index denominator. This divider is only related to the basic base year of the SENSEX. It makes the index comparable and is also the change point for the reshuffling of the index through corporate activities or changing of shares.

The Sensex has traveled a long journey since 1986 and has grown by 35 times at the moment. The Sensex closed at 549.43 on April 1, 1986, on the first day of trading. It opened in its silver jubilee year at 17467 points.

निष्कर्ष -Conclusion

आज के पोस्ट के जरिये हमने जाना BSE IN HINDI के बारे में और अन्य what is bse, What Is Nse And Bse, How Many Companies Are Listed In Bse, what is the full form of bse, BSE संसेक्स क्या है ? what is BSE Sensex? bse computarized(कम्पूटराइज़्ड) कब हुआ ? BSE ki शुरआत कब और कैसे हुई ? आदि इन सभी के बारे में जाना है

अगर (BSE )बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के बारे यह जानकारी पसंद आयी हो तो हमे कमेंट करके जरूर बताये

आशा करता हु की आपको यह जानकरी अच्छी लगी होगी इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ और सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूले और अगर आपको स्टॉक मार्किट, फाइनेंस, बैंकिंग आदि से जुडी जानकारी या पोस्ट पढ़ना पसंद है तो आप हमारे इस ब्लॉग को सब्सक्राइब (subscribe)कर सकते है

Read More…

share bazaar kya hai- what is stock market

how to invest in stock market


1 thought on “Bse In Hindi -what is nse and bse -how many companies are listed in BSE”

Leave a Comment