Types Of Business Loan In Hindi 2022|भारत मे बिजनेस लोन के प्रकार


types of business loan hindi :– बिज़नेस चाहे कैसा भी हो बड़ा हो या छोटा उसे शुरू करने के लिए और चला ने के लिए सबसे पहले पैसे की जरूरत होती है और अधिकतर बिज़नेस लोन के पैसे से ही शुरू किए जाते है और दिन-प्रतिदिन की व्यापार की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए अधिकांश समय मे ज्यादा पैसों की आवश्यकता होती है।

business loan types hindi- जैसा की हम जानते की व्यवसायों को शुरुआती चरणों में और विकास के दृष्टिकोण के लिए धन की सबसे अधिक जरूरत पड़ती है ऐसे में हम आपको बिज़नेस के लिए कई प्रकार के बिज़नेस लोन (Types of Loans in India in Hindi) के बारे में जानकारी देने वाले है जिनके माध्यम सेआप अपना बिज़नेस शुरू कर सकते है ओर बिज़नेस loan for business in india जैसा भी हो छोटा या बड़ा आप आसानी से लोन सकते है।

Types of business Loans in India in Hindi

आज हम इस लेख में भारत में वित्तीय संस्थानों द्वारा स्वीकृत लगभग सभी प्रकार के व्यावसायिक ऋणों पर चर्चा करेंगे जिससे आप बिज़नेस कर सकते है आइये जानते है इनके बारे में:-

आमतोर पर दो प्रकार के लोन होते है

  1. पेशेवर लोन ( professional loan )
  2. ट्रैड लोन (trade loan)

भारत मे बिजनेस लोन कई प्रकार के होते है जिनके बारे मे हम इस लेख के जरिए जानेगे ।

1. पेशेवर लोन ( professional loan )

इस तरह का बिजनेस लोन पेशेवर व्यक्तियों को दिया जाता है पेशेवर व्यक्ति से मतलब है वो व्यक्ति जो खुद का बिजनेस करते है खुद का बिजनेस स्थापित करना चाहते है इन पेशेवर व्यक्तियों मे वकील ,डॉक्टर , चार्टड अकाउंटटेट आदि सभी व्यक्ति आते है इन व्यक्तियों को यह लोन उनके क्रेडिट हिस्ट्री को ध्यान मे रखते हुए दिया जाता है इसके अलावा अलग अलग बैको द्वारा दिया जाने वाला लोन भी अलग हो सकता है यह लोन किसी भी व्यक्ति के बैंक से आपसी लेन-देन ओर आपसी सबंध के हिसाब से कम ज्यादा हो सकता है

लेकिन कई बार बैंक या वितये संस्था किसी भी व्यक्ति को लोन देने से पहले उससे गैर कर्षि भूमि ,सरकारी बांड , जीवन बीमा पॉलिसी , राष्टीय बचत प्रमाण पत्र आदि सब रखकर यह लोन पास किया जाता है आमतोर पर इन सब की जरूरत तब पड़ती है जब लोन अमाउंट अधिक हो मतलब जब हम 15 20 लाख तक का लोन लेते है तब हम से इन सब के दस्तावेज मांगे जा सकते है

इस लोन को प्राप्त करने के लिए कुछ trem condition है जिन्हे फॉलो करने के बाद ही हमे लोन मिल सकता है

  1. व्यापार को विस्तार करने की योजना
  2. लोन से मिलने वाले धन का इस्तेमाल ओर उसे वापस पुनर्भुगतान करने की योजना
  3. पिछले 1 साल का फाइनैन्शल विवरण जिसमे बैंक स्टेटमेंट ,सिविल स्कोर आदि को देखा जाता है
  4. अगर लोन अमाउंट अधिक है तो गारंटी के तोर पर कुछ संपती के दस्तावेज
  5. ओर सभी दस्तावेज जिनसे साबित हो की यही व्यक्ति बिजनस के लिए लोन ले रहा है जिसमे पेन कार्ड ,आधार कार्ड , पता प्रमाण पत्र , आदि सभी दस्तावेज शामिल है
  6. पिछले कुछ सालों की बैलन्स शीट ओर इनकम टेक्स रिटर्न फ़ाइल भी जरूरी है

2. व्यापारिक लोन (trade loan)

इस लोन के लिए कोई पाटनरशिप फर्म , अकेले सवामित्व वाली कंपनी ,ओर प्राइवेट लिमिटेड कंपनी आदि को इस प्रकार का लोन दिया जाता है मतलब जो व्यक्तिगत सवामित्व वाली कंपनिया या फिर कोई पाटनरशिप कंपनी या फिर कोई प्राइवेट कंपनी होती है उन्हे बैंक के द्वारा या वितये संस्थानों के द्वारा या यह लोन प्रदान किया जाता है इसके कई प्रकार जिनके बारे मे हमने विस्तार से चर्चा की है

कार्यशील पूंजी ऋण Working Capital Loan

loan in india for business- कार्यशील पूंजी ऋण (Working Capital Loan) का उपयोग व्यापरियों द्वारा अपनी दिन-प्रतिदिन की व्यावसायिक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए किया जाता है, जैसे की किसी मशीनरी उपकरण खरीदना, व्यापार नकदी प्रवाह का प्रबंधन, कच्चा माल खरीदना, इन्वेंट्री बढ़ाना, वेतन का भुगतान करना आदि सभी कार्यशील पूंजी ऋण प्रमुख रूप से अल्पकालिक ऋण (short-term loans) होते हैं जिनमें उसकी अवधि 12 महीने तक की होती है इस कार्यशील पूजी ऋण को एक संपार्श्विक-मुक्त ऋण (collateral-free loan) भी कहा जाता है

इसमें उधारकर्ता को बैंक के साथ कोई संपार्श्विक या सुरक्षा जमा करने की आवश्यकता नहीं होती है इसमें दी जाने वाली ब्याज दर लंबी अवधि के ऋण या सामान्य व्यावसायिक ऋण की तुलना में थोड़ी अधिक होती है इस प्रकार के ऋण में, बैंक व्यवसाय के लिए ऋण देने के लिए एक सीमा निर्धारित करता है और इस राशि का उपयोग केवल विशिष्ट व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है।

Working Capital Loan

Interest Rate आवेदक की प्रोफ़ाइल पर निर्भर करता है और बैंक से बैंक में भिन्न होता है
Age Criteria Min. 18 years & Max. 65 years
Loan Amount व्यावसायिक आवश्यकताओं पर निर्भर करता है
Repayment Tenure 12 months – 84 months
Processing Fee Up to 3% of the loan amount
Collateral Not required
Loan offered to Entrepreneurs, Pvt. & Public Ltd. Companies, Partnership Firms, Sole Proprietorship, MSMEs & Self-employed Professionals
Interest Rate Type Floating Rate of Interest – Mostly
Business Tenure Min. 3 years in business with profit

सावधि ऋण Term Loan

business loan in india- सावधि ऋण (Term Loan ) एक ऐसा ऋण है जिस को एक निश्चित समय या अवधि में नियमित भुगतान में चुकाना पड़ता है टर्म लोन को शॉर्ट टर्म और लॉन्ग टर्म लोन में वर्गीकृत किया गया है इन दो प्रकार की चुकौती अवधि 12 महीने से 10 वर्ष के बीच होती है टर्म लोन जो कम अवधि के होते हैं जो कि 12 महीने के होते हैं, शॉर्ट टर्म लोन कहलाते हैं और 10 साल तक के लोन लॉन्ग टर्म लोन होते हैं बैंक द्वारा दी जाने वाली ऋण राशि रुपये से लेकर है

1 लाख से रु. 1 करोड़, व्यावसायिक आवश्यकताओं के आधार पर इससे भी अधिक हो सकता है ऋण आवेदन के समय ऋणदाता द्वारा सावधि ऋण के लिए पुनर्भुगतान अवधि को अंतिम रूप दिया जाता है।

इस लोन के बारे में सभी जानकारिया आप किसी भी बैंक से ले सकते है। different types of business loans

साख पत्र Letter of Credit Loan

business loan in india- लेटर ऑफ क्रेडिट एक प्रकार की क्रेडिट सीमा है जिसका उपयोग प्रमुख रूप से व्यापारिक व्यवसायों में किया जाता है जिसमें बैंक या ऋणदाता उन उद्यमों को फंडिंग गारंटी प्रदान करते हैं जो अंतर्राष्ट्रीय व्यापार में सौदा करते हैं उद्यमियों द्वारा आयात और निर्यात दोनों उद्देश्यों के लिए साख पत्र का उपयोग किया जा सकता है

विदेशों में व्यवसाय करने वाले उद्यम कुछ अज्ञात आपूर्तिकर्ताओं के साथ व्यवहार करते हैं, इसलिए इसके लिए उन्हें कोई भी लेनदेन करने से पहले भुगतान के आश्वासन की आवश्यकता होती है इसलिए, आपूर्तिकर्ताओं को भुगतान आश्वासन प्रदान करने में साख पत्र (Letter of Credit Loan ) एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है

इस लोन की जरूरत आपको तब होती है जब आप Import-Export का बिज़नेस शुरू करते है।

बिल डिस्काउंटिंग Bill Discounting Loan

types of business loan- बिल या इनवॉइस डिस्काउंटिंग एक फंडिंग सुविधा है जिसमें विक्रेता को ऋणदाता से रियायती दरों पर अग्रिम राशि मिलती है यह खरीदारों को भुगतान किए गए ब्याज के रूप में और मासिक शुल्क से वित्तीय संस्थानों के राजस्व में वृद्धि के लिए ब्याज दर के रूप में योगदान करने के लिए कहता है।

जैसे- आपने A को माल बेचा है उन्होंने आपको बैंक से 45 दिनों का साख पत्र ( Letter of Credit Loan) दिया है, यदि आप 45 दिनों से पहले बैंक से पैसा प्राप्त करना चाहते हैं तो बैंक आपसे कुछ ब्याज दर वसूल करेगा, जो बदले में विक्रेता के लिए छूट कहा जा सकता है।

अपना खुद का बिजनेस कैसे शुरू करें 2021-22 Business Kaise Start Kare

Overdraft Loan

types of loans for business- ओवरड्राफ्ट सुविधा एक बैंक द्वारा अपने खाताधारक को अपने खाते से नकद निकालने की पेशकश की जाती है, भले ही खाते में शेष राशि शून्य हो ब्याज दर केवल स्वीकृत सीमा से और दैनिक आधार (daily basis) पर उपयोग की गई राशि पर ही ली जाती है स्वीकृत की गई क्रेडिट सीमा खाताधारक के बैंक के साथ संबंध, क्रेडिट इतिहास, नकदी प्रवाह और पुनर्भुगतान इतिहास, यदि कोई हो, पर निर्भर करती है

ओवरड्राफ्ट की सीमा को हर साल संशोधित किया जाता है और अगर समय पर ब्याज का भुगतान किया जाता है तो इसे किसी भी तरीके से इस्तेमाल किया जा सकता है ओवरड्राफ्ट सुविधा संपार्श्विक या प्रतिभूतियों के खिलाफ दी जाती है, खासकर बैंक के साथ एफडी के मामले में।

यदि आप बैंक से एक ओवरड्राफ्ट खाता स्वीकृत करवाते हैं तो आपको अनुरोधित ओवरड्राफ्ट राशि वैसे ही प्राप्त होगी जैसे आप बैंक से ऋण राशि प्राप्त करते हैं यदि आप ओवरड्राफ्ट सुविधा के लिए पूर्व-अनुमोदित हैं, तो जब भी आपको धन की आवश्यकता हो आप अपने बैंक खाते से आहरण कर सकते हैं और यह ओवरड्राफ्ट में चला जाएगा।

आप अपने खाते के माध्यम से एक सहमत सीमा तक धनराशि को ओवरड्रॉ कर सकते हैं ओवरड्राफ्ट सुविधा का उपयोग करके आप मूल रूप से अपने बैंक खाते पर बकाया राशि में वृद्धि करते हैं जब आप धनराशि जमा करते हैं तो बकाया कम हो जाता है उधार लेने के समय से लेकर चुकाने तक, आपका बैंक आपसे ब्याज वसूल करेगा।

उपकरण वित्त Equipment Finance

उपकरण वित्त Equipment Finance या मशीनरी ऋण लेने वालों को उनके लिए नए उपकरण/मशीनरी खरीदने या मौजूदा को अपग्रेड करने के लिए प्रदान किया जाने वाला एक वित्तपोषण विकल्प है। उपकरण वित्त का उपयोग मुख्य रूप से बड़े उद्यमों और विनिर्माण क्षेत्र में लगे उद्यमों द्वारा किया जाता है उपकरण ऋण लेने वाले उद्यम या व्यवसाय के मालिक भी कर लाभ का आनंद लेते हैं ब्याज दर, ऋण राशि और पुनर्भुगतान अवधि की पेशकश ऋणदाता से ऋणदाता के लिए अलग-अलग होती है। type of business loan

सरकार के तहत ऋण Loans under Govt. Schemes

small business loans in india- भारत सरकार द्वारा व्यक्तियों, एमएसएमई, महिला उद्यमियों और व्यापार, सेवाओं और विनिर्माण क्षेत्रों में लगी अन्य संस्थाओं को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने अलग अलग प्रकार की ऋण योजनाएं शुरू की हैं।

business loan in india- इन सरकारी योजनाओं के तहत ऋण विभिन्न वित्तीय संस्थानों, जैसे निजी और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों द्वारा पेश किए जाते हैं।

बिज़नेस के लिए सरकारी लोन लेने के लिए आप इस आर्टिकल को पड़ सकते है सरकारी लोन की सभी जानकारिया आपको इस आर्टिकल में मिलने वाली है- नया बिजनेस शुरू करने के लिए सरकारी लोन 2022

Point-of-Sale (POS) Loans

पीओएस लोन या मर्चेंट कैश Point-of-Sale (POS) Loans एडवांस एक ऐसा तंत्र है जिसमें एक उद्यम चलाने वाला व्यवसाय स्वामी अपने दैनिक या भविष्य के क्रेडिट या डेबिट कार्ड लेनदेन के माध्यम से आपूर्तिकर्ताओं को अग्रिम रूप से एकमुश्त राशि का भुगतान करता है कई बार, एसएमई के व्यापारियों को अल्पकालिक नकदी संकट का अनुभव होता है इसलिए, व्यापार में तरलता की कमी को कम करने के लिए, व्यापारी पीओएस ऋण का विकल्प चुनते हैं।

पीओएस ऋणों के तहत दी जाने वाली ब्याज दर अन्य व्यावसायिक ऋण प्रकारों की तुलना में तुलनात्मक रूप से अधिक है। पुनर्भुगतान सुविधा खुदरा दुकानों, किराना स्टोर, सुपरमार्केट और शॉपिंग मॉल में स्थापित डेबिट या क्रेडिट लेनदेन से जुड़ी हुई है। types of business loan

सिर्फ 2 स्टेप में चेक करें बिजनेस लोन पाने

निष्कर्ष

आज हमने इस लेख के जरिए types of business loan के बारे मे जाना अगर आपको types of loans in india hindi की यह जानकारी अच्छी लगी तो हमे कमेन्ट करके जरूर बताये इसके साथ ही अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करे ओर इस पोस्ट से जुड़ा कोई भी अन्य प्रशन आप हमे कमेंट में पूछ सकते है धन्यवाद।


Leave a Comment