NBFC full form in Hindi | एनबीएफसी का क्या मतलब होता है | List of NBFC in India 2023

आज हम इस लेख के जरिए से जानेगे NBFC क्या है ? ओर NBFC full form in Hindi, List of NBFC in India 2023,एनबीएफसी का क्या मतलब होता है,एनबीएफसी की भूमिकाएँ (Roles of NBFCs)आदि सभी के बारे मे विस्तार से जानेगे ।

NBFC full form in banking (NBFC in Hindi)

NBFC का फुल फॉर्म “Non Banking Financial Company” होता है, जिसे हिंदी में ‘गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनी’ कहते हैं। यह एक प्रकार की वित्तीय कंपनी है जो बैंकों के समान वित्तीय सेवाएं प्रदान करती है, लेकिन बैंकों के पास लाइसेंस नहीं है। एनबीएफसी विभिन्न प्रकार के वित्तीय उत्पाद और सेवाएं प्रदान करती हैं, जैसे कि ऋण, बचत योजनाएं, बीमा, और म्यूचुअल फंड

एनबीएफसी का क्या मतलब होता है (What is NBFC)

NBFC- यह एक प्रकार की वित्तीय कंपनी है जो बैंकों के समान वित्तीय सेवाएं प्रदान करती है, लेकिन बैंकों के पास लाइसेंस नहीं है। एनबीएफसी विभिन्न प्रकार के वित्तीय उत्पाद और सेवाएं प्रदान करती हैं, जैसे कि ऋण, बचत योजनाएं, बीमा, और म्यूचुअल फंड।

एनबीएफसी के प्रकार / गैर- बैंकिंग वित्तीय कंपनी के प्रकार (Types Of NFBC)

एनबीएफसी को विभिन्न प्रकारों में वर्गीकृत किया जाता है, जैसे कि:

  • लीजिंग कंपनी: ये कंपनियां वाहनों, मशीनरी, और अन्य संपत्तियों को लीज पर देती हैं।
  • हाइयर परचेज कंपनी: ये कंपनियां उपभोक्ता वस्तुओं को खरीदने में ग्राहकों की मदद करती हैं, और फिर उन्हें ग्राहकों को किश्तों में बेचती हैं।
  • फाइनेंस कंपनी: ये कंपनियां व्यक्तिगत और व्यावसायिक ऋण प्रदान करती हैं।
  • मूल्यपवर्तन कंपनी: ये कंपनियां प्रतिभूतियों और अन्य वित्तीय साधनों का मूल्यांकन करती हैं।
  • म्यूचुअल फंड कंपनी: ये कंपनियां म्यूचुअल फंड जारी करती हैं और उनका प्रबंधन करती हैं।

एनबीएफसी का महत्व / एनबीएफसी की भूमिकाएँ (Roles of NBFCs)

एनबीएफसी भारतीय वित्तीय प्रणाली में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वे बैंकों के लिए एक विकल्प प्रदान करते हैं, और वे उन लोगों को वित्तीय सेवाएं प्रदान कर सकते हैं जो बैंकों से सेवाएं प्राप्त करने में सक्षम नहीं हैं। एनबीएफसी भी बैंकों को प्रतिस्पर्धा करते हैं, जिससे कि बैंकों को बेहतर सेवाएं प्रदान करने के लिए मजबूर होना पड़ता है।

भारत में एनबीएफसी कंपनी

भारत में कई एनबीएफसी हैं। कुछ सबसे बड़े एनबीएफसी हैं:

HDFC फाइनेंस: यह भारत की सबसे बड़ी एनबीएफसी है।
ICICI फाइनेंस: यह भारत की दूसरी सबसे बड़ी एनबीएफसी है।
टाटा कैपिटल: यह भारत की तीसरी सबसे बड़ी एनबीएफसी है।
एचडीएफसी बैंक: यह एक बैंक है, लेकिन यह भी एक एनबीएफसी के रूप में कार्य करता है।
ICICI बैंक: यह एक बैंक है, लेकिन यह भी एक एनबीएफसी के रूप में कार्य करता है।

एनबीएफसी का इतिहास

एनबीएफसी का इतिहास भारत में 1950 के दशक में शुरू हुआ। उस समय, बैंकों को केवल कुछ प्रकार के ऋण देने की अनुमति थी। इस कारण, कुछ कंपनियों ने गैर-बैंकिंग वित्तीय सेवाएं प्रदान करने के लिए शुरू किया। इन कंपनियों को एनबीएफसी के रूप में जाना जाने लगा।

एनबीएफसी का भविष्य

एनबीएफसी का भविष्य उज्ज्वल है। वे भारतीय वित्तीय प्रणाली में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, और वे बढ़ते हुए हैं। एनबीएफसी को भारतीय अर्थव्यवस्था के विकास में महत्वपूर्ण योगदान देने की उम्मीद है।

एनबीएफसी का विनियमन (Who regulates NBFC?)

एनबीएफसी का विनियमन भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा किया जाता है। आरबीआई एनबीएफसी को लाइसेंस देता है और उनके कामकाज को नियंत्रित करता है। एनबीएफसी को कुछ विशिष्ट मानदंडों को पूरा करना होता है, जैसे कि न्यूनतम पूंजी, ऋण-जमा अनुपात, और तरलता अनुपात।

Rbi Approved Nbfc Bank list (List of Top 10 Non Financial Companies in India 2023)

भारत में टॉप 10 गैर बैंकिंग वित्तीय कम्पनियों की सूची 2023:

  • HDFC Finance-एचडीसी फाइनेंस सर्विसेज (HDFC Finance Services)
  • ICICI Finance
  • Tata Capital-टाटा कैपिटल फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड (Tata Capital Financial Services Limited)
  • Bajaj Finance-बजाज फाइनेंस लिमिटेड (Bajaj Finance Limited)
  • L&T Finance- एल एंड टी फाइनेंस लिमिटेड (L&T Finance Limited)
  • Shriram Transport Finance-श्रीराम ट्रांसपोर्ट फाइनेंस कंपनी लिमिटेड (Shriram Transport Finance Company Limited)
  • IndusInd Bank
  • AU Small Finance- एयू समाल फाइनैन्स बैंक लिमिटेड (AU Small Finance Bank limited )
  • Muthoot Finance-मुथूट फाइनेंस लिमिटेड (Muthoot Finance Limited)
  • Mahindra Finance-महिंद्रा एंड महिंद्रा फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड (Mahindra & Mahindra Financial Services Limited)

एनबीएफसी कैसे काम करती है?/ एनबीएफसी के कार्य क्षेत्र (Scope of NBFCs)

एनबीएफसी काम करने के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन करती हैं:

  • ग्राहक एनबीएफसी से संपर्क करता है और वित्तीय सेवा के लिए आवेदन करता है।
  • एनबीएफसी ग्राहक की योग्यता का मूल्यांकन करता है और फिर ऋण या अन्य वित्तीय सेवा प्रदान करता है।
  • ग्राहक ऋण या अन्य वित्तीय सेवा के लिए ब्याज और अन्य शुल्क का भुगतान करता है।

एनबीएफसी को कैसे चुनें ?

एनबीएफसी चुनते समय निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखें:

  • एनबीएफसी की प्रतिष्ठा और वित्तीय स्थिति।
  • एनबीएफसी द्वारा दी जाने वाली वित्तीय सेवाओं की लागत।
  • एनबीएफसी द्वारा दी जाने वाली सेवाओं की शर्तें और शर्तें।
  • एनबीएफसी द्वारा दी जाने वाली सेवाओं की उपलब्धता।

NBFC क्या है ?

निष्कर्ष

NBFC एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं भारतीय वित्तीय प्रणाली। वे बैंकों के लिए एक विकल्प प्रदान करते हैं, और वे उन लोगों को वित्तीय सेवाएं प्रदान कर सकते हैं जो बैंकों से सेवाएं प्राप्त करने में सक्षम नहीं हैं। एनबीएफसी का भविष्ज्ज्ल है, और वे भारतीय अर्थव्यवस्था के विकास में महत्वपूर्ण योगदान देने की उम्मीद है

इस लेख माध्यम से हमने NBFC के बारे मे विस्तार से जाना जेसे NBFC क्या है, NBFC full form , NBFC का मतलब ,NBFC के कार्य , NBFC का महत्व आदि सभी के बारे मे पढ़ा ओर समझा। अगर आपको हमारी यह जानकारी पसंद आए तो अपने दोस्तों के साथ social media पर जरूर शेयर करे जिससे उन्हे भी यह जानकारी मिले ओर उनका भी ज्ञान बढ़े। धन्यवाद

Q.1 Full form of NBFC

ans. NBFC का फुल फॉर्म “Non Banking Financial Company” होता है

Q.2 एनबीएफसी की आवश्यकता क्यों है?

ans. nbfc देश की बैंकिंग सुविधाओं से वंचित और कम बैंकिंग सुविधा वाली आबादी की जरूरतों को पूरा करते हैं । एनबीएफसी व्यक्तियों, छोटे और मध्यम आकार के उद्यमों और अन्य व्यवसायों को वित्तीय सेवाएं प्रदान करते हैं पारंपरिक बैंकों द्वारा सेवा प्रदान नहीं की जाती

Leave a Comment