मशरूम की खेती।मशरूम की खेती 2022 मे कैसे करें?


आज हम इस लेख के जरिए मशरूम की खेती के बारे मे जानेगे इसके साथ ही जानेगे मशरूम की खेती हिंदी मे मशरूम की खेती कैसे करें? (Mushroom Farming in Hindi) मे जानेगे ओर मशरूम क्या है? ,मशरूम के प्रकार मशरूम की खेती हिन्दी pdf,मशरूम की खेती ट्रेनिंग आदि सभी के बारे मे इस लेख के जरिए जानेगे ।

मशरूम की खेती कैसे करें?Mushroom Farming in Hindi

किसी भी रोजगार को अगर अच्छी लगन से सही तरीके से या ज्यादा मेहनत से करते हैं तो उसे कई ज्यादा आपको फायदा होता है उसी प्रकार आप मशरूम की खेती जितनी मेहनत से सही ढंग से पूरी लगन से करते हैं तो उसी प्रकार आपको आपकी मेहनत का 10 गुना वापिस मिलता है यदि आप बाजार के भाव पर भी भेजते हैं तो आपको आपके लागत के 10 गुना से भी ज्यादा मुनाफा को 1 साल में देगा।

यह खेती उत्तर प्रदेश हरियाणा और राजस्थान जैसे राज्यों में इसकी खेती आरंभ हो चुकी है इतना यह नहीं माचल प्रदेश जम्मू-कश्मीर जैसे ठंडे राज्यों में भी मशरूम की खेती की जाने लगी है पूरे विश्व में एशिया एवं अफ्रीका के क्षेत्र में इसकी मांग काफी अधिक देखने को मिलती है।

मशरूम क्या है?

मशरूम एक पौधा है लेकिन फिर भी इसको मांस की तरह देखा जाता है। मतलब आप इसको साकारी पौधा तो नहीं कह सकते इसमें अधिक मात्रा में प्रोटीन एवं पोषक तत्व होते हैं जैसे विटामिन डी यह फफूंद से बनता है और इसके आकार की बात करें तो यह एक छाते के आकार का होता है।

मशरूम के प्रकार।

मशरूम के अनेक सारे किसमें है ज्यादातर इसमें सिर्फ पांच प्रकार की किस्में अच्छी फायदेमंद मानी जाती हैं इनके नाम है

बटन मशरूम।
पैड़ी स्ट्रॉ।
स्पेशली मशरूम।
दवाइयों वाली मशरूम
धींगरी या ओएस्टर मशरूम है।
इसमें बटन मशरूम ज्यादा पसंद की जाती है कहीं कहीं इसे। मिल्की मशरूम भी कहा जाता है।

इसके बीज की कीमत।

इसके बीज की कीमत ₹80 प्रति किलोग्राम से शुरू होकर जो की ब्रांड और किस्म के अनुसार बदलती रहती है इसलिए आपको पहले गया था करना पड़ेगा कि आप को किस किस्म की मशरूम की खेती करनी है।

कैसे करें मशरूम की खेती।

अगर आपके पास बजट और जगह की कमी होती है तो आप 40 से 50 गज के प्लॉट मैं मशरूम उगा सकते हैं चाहे तो आप मार्केट से तैयार कम कंपोजिट भी खरीद सकते हैं लेकिन ध्यान रहे कि इन कम कंपोजिट को आप किसी कमरे में या किसी छाया वाली जगह में रखे 20 से 25 दिन के बाद खुद ही इस में मशरूम होना शुरू हो जाते हैं। अगर आप इसके अलावा और व्यापार कर रहे हैं या करना चाहते हैं तो इसको छोटे स्तर पर ही शुरु कर दें

जिससे आपके दूसरे व्यापार के काम पर कोई असर नहीं पड़ेगा आपके व्यापार का पैमाना आप की जमीन पर निर्भर करता है बाकी मशरूम की प्रक्रिया एक जैसे ही होती है चाहे छोटे स्तर पर किया जाए या बड़े स्तर पर ऐसे ही आप एलोवेरा की खेती भी कर सकते हैं।

इन बातों का ध्यान रखें।

मशरूम की खेती को बहुत देखभाल की जरूरत होती है इसलिए इसमें ज्यादा कॉन्पिटिशन नहीं है इसकी खेती के लिए सबसे ज्यादा जरूरी तापमान होता है इसे 15 या 22 डिग्री सेंटीग्रेड के बीच उगाया जाता है ज्यादा तापमान होने के कारण फसल खराब होने की संभावना बनी रहती है

खेती के लिए नमी 80 या 90 फ़ीसदी होनी चाहिए। अच्छा मशरूम उगाने के लिए कंपोस्ट का भी अच्छा होना जरूरी है खेती के लिए ताजा बीज ही खरीदें ज्यादा पुराना बीजना ले इसका असर उत्पादन पर होता है ताजा मशरूम की कीमत ज्यादा होती है इसलिए तैयार होते ही इसे बाजार बेचने ले जाए।मशरूम की खेती।

मशरूम कहां बेच सकते हैं?

मशरूम की मांग कई जगह पर रहती है लेकिन मशरूम की ज्यादा मांग होटल और दवाई बनाने वाली कंपनियों में ज्यादा होती है मशरूम का उपयोग ज्यादा चाइनीस फूड बनाने में होता है मशरूम का आयात और निर्यात भी किया जा सकता है आप मशरूम को विदेशों में भी भेज सकते हैं ज्यादातर इसका दवाई बनाने वाली कंपनियों में संपर्क करके इसे भेज सकते हैं और ज्यादा लाभ कमा सकते हैं

यह भी पढे-: Share market update live: आज 22 feb को बाजार मे गिरावट जारी रही


Leave a Comment